तिलोई की खास ख़बरें विजय कुमार शुक्ला तिलोई से

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
: 12 करोड़ के विकास कार्यों पर लगी मोहर
तिलोई ।
सिंहपुर ब्लाक सभागार में सम्पन्न हुई क्षेत्र
पंचायत की बैठक में 12 करोड़ से
अधिक के विकास कार्यों का अनुमोदन
किया। बैठक में बतौर मुख्य अतिथि
पहुंचे विधायक मयंकेश्वरशरण सिंह ने
कहा कि विकास योजनाओं को शासन
के निर्देशों के अनुरूप समय पर पूर्ण
पारदर्शिता के साथ पूरा किया जाए।
बैठक की अध्यक्षता प्रमुख रंजीत सिंह
ने किया।
विधायक श्री सिंह ने बैठक को
सम्बोधित करते हुए कहा कि केन्द्र और
प्रदेश की सरकार विकास कार्यों को
लेकर कृतसंकल्पित है। मनरेगा के तहतगांव के किसानों को काम मिल रहा है तो
समूहों के माध्यम से स्वरोजगार उपलब्ध
करवाया जा रहा है।
विधायक ने जन प्रतिनिधियों और
अधिकारियों से कहा कि शासन के द्वारा
जो विकास के लक्ष्य हैं उन्हें समय पर पूरा
किया जाय।
बीडीओ शरद कुमार सिंह ने बताया
कि मनरेगा में 84 फीसदी का लक्ष्य पूर्ण
कर लिया गया है। आवास योजना के
1261 लाभार्थियों में 1129 को द्वितीय
किस्त जारी की जा चुकी है। एडीओ
पंचायत के अनुरूप 15 गांव वाह्य शौंच
मुक्त घोषित हो चुके हैजिसमें हसनपुर
गोपालपुर गोधना में शौचालय का निर्माण
कार्य जारी है। बैठक का संचालन ग्राम
प्रधान संघ के अध्यक्ष अर्जुन सिंह
भदौरिया ने किया। इस अवसर पर पूर्व
प्रमुख रामदेव पासीधर्मेश मिश्र,संतलाल मोर्य, करूण शंकर, संजय
आनन्ददिलीपयादव समेत तमाम लोग
मौजूद रहे।

सड़क को लेकर बैंक के बीच ग्रामीणों ने किया प्रदर्शन

तिलोईविकास खंड की ग्राम
पंचायत इन्हौना के मकदूमगंज और
चौनापुर होते हुए अमेठी की सीमा
तक मार्ग बेहद जर्जर है। इस मार्ग पर
कई लोग चोटहिल हो चुके है। मार्ग
से आजिज ग्रामीणों ने आशुतोष सिंह
की अगुवाई में नारेबाजी करते हुए
ब्लाक पहुंचे और विधायक
मयंकेश्वर शरण सिंह को ज्ञापन सौंप
मार्ग बनवाने की मांग की।विधायक
ने ग्रामीणों को सड़क जल्द बनवाये
जाने का आश्वासन दिया।

शिक्षकों के गले की हड्डी बना शासनादेश
तिलोई। शासन के दिशा निर्देशों के तहत परिषदीय विद्यालय के बच्चों में स्वेटर
वितरण शिक्षकों को अपने गले की घंटी स नजर आ रहा है। शासन ने स्वेटर का
मूल्य दो सौ रूपये तय किए ऐसे में गुणवत्ता देना उन्हें टेडी खीर नजर आ रहा है।
शासन पहले सौ रूपये ही दे रही है बाकी के सौ रूपए गुणवत्ता परख जाने के
बाद मिलेंगेशिक्षकों की माने तो उनके लिए यह काम गले पड़ी खंजड़ी की
तरह जिसे बजानी ही होगी। 125 प्राथमिक विद्यालयों एवं 32 पूर्व माध्यमिक
विद्यालयों के हजारों बच्चे भीषण ठंड़ में स्वेटर की चर्चा सुन रहे है क्योंकि
मिलता उन्हें दिख नहीं रहा। अध्यापक भी शासनादेश आने के बाद हतप्रभ है
क्योंकि शासन के मानक और दो सौ का स्वेटर दोनो में सामंजस्य ही नहीं बन पा
रहा है। एक शिक्षक ने बताया कि अभी 30 जनवरी तक बच्चों के बीच स्वेटरों
का वितरण करना है। यह वितरण विद्यालय प्रबंध समिति द्वारा किया जाना है
लेकिन अभी तक इस मद का पैसा प्रबंध समिति के खाते में नही पहुंचा है।

Ashok Shrivastav

State Head Uttar Pradesh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: