स्वर्गवासी बेटे ने निभाया पुत्र धर्म – मुस्करा से अमित त्रिवेदी की रिपोर्ट

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


*बेटे ने स्वर्गवासी होकर भी निभाया पुत्र धर्म।* मामला मुस्करा थाना के बसवारी गांव का है। बेटे ने मरने के बाद भी अपने बूढ़े और बीमार मां बाप को सहारा दिया। बता दें कि आज से लगभग 1 वर्ष पहले वीरेंद्र पुत्र देवकरण सविता मजदूरी के लिए दिल्ली जा रहा था , 20 सितंबर 2017 को दिल्ली जाते समय रेल दुर्घटना में वीरेंद्र की दर्दनाक मौत हो गई थी। जिससे मां-बाप और भाइयों पर दुख का पहाड़ टूट पड़ा था। बीरेंद्र के पिता भूमिहीन और गरीबी से ग्रस्त व्यक्ति है। जिसके चलते वीरेंद्र मजदूरी कर पैसा कमाने की ख्वाहिश लेकर दिल्ली जा रहा था। किंतु रास्ते में ही ट्रेन हादसे का शिकार होकर काल के गाल में समा गया। किंतु वीरेंद्र की सोच ने आज पूरे परिवार की किस्मत ही बदल डाली। वीरेंद्र ने अपने भारतीय स्टेट बैंक मुस्करा के खाते से व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा ₹500 प्रतिवर्ष के हिसाब से ले रखा था । जिसका उत्तराधिकारी अपने पिता को बनाया था। मृतक वीरेंद्र एक ऊंची सोच वाला नवयुवक था, उसकी ₹500 प्रतिवर्ष की बीमा की रकम आज बैंक की कार्यवाही के बाद उसके पिता देवकरण को बैंक मैनेजर मुकेश कुमार बाजपेई द्वारा दस लाख रुपए की चेक के रूप में प्रदान की गई। इतनी बड़ी रकम पाकर गरीब पिता के आंसू छलक पड़े और अपने मृत बेटे को याद कर फफक फफक कर रो पड़ा ।बैंक मैनेजर मुकेश कुमार बाजपेई ने बताया कि एक छोटी सी सोच ने वृद्ध एवं बीमार मां बाप की किस्मत बदल दी है । यह सब उसके बेटे की अच्छी सोच का नतीजा है। प्रबंधक ने अपने सभी ग्राहकों को ऐसी सोच रखने का आग्रह करते हुए व्यक्तिगत बीमा योजना से जुड़ने का निवेदन किया।
इस मौके पर मौजूद भारतीय स्टेट बैंक जनरल इन्सोरेन्स रिलेशनशिप मैनेजर आलोक सिंह ने बैंक में मौजूद सभी ग्राहकों को व्यक्तिगत बीमा योजना के लाभों के बारे में बताते हुए इस बीमा योजना से जुड़ने के लिए प्रेरित किया।
आज ऐसे में पूर्वजों की वह कहावत सिद्ध होती है कि “पूत कपूत तो का धन संचय , पूत सपूत तो ता धन संचय”
अर्थात ऐसे गरीब पिता और बीमार मां के दूध का कर्ज आज वीरेंद्र ने दुनिया में न रहकर भी चुकाया है। पिता देवकरण का कहना है कि मेरा वीरेंद्र अगले जन्म में भी मेरा ही सपूत बन कर आए ।
*मुस्कुरा से संवाददाता अमित त्रिवेदी की रिपोर्ट*

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: