शासन प्रशासन के सह पर फल फूल रहा अवैध खनन और अवैध वसूली व्यापार

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मुन्ना विश्वकर्मा –

बुंदेलखंड (हमीरपुर) : यूँ तो खनन को लेकर पूरे बुंदेलखंड का मुंह काला है।

जिसमे विभागीय अधिकारियों व सत्ता का सानिध्य प्राप्त कर भूमाफियां का काला धंधा दिन दूनी रात चौगुनी तरक्की की ओर अग्रसर है।
ज्ञात हो कि प्राकृतिक सम्पदा को दोहन से रोकने व् राजस्व नुकसान से बचाने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने सख्त आदेश देते हुए बुंदेलखंड में हो रहे अवैध खनन पर नकेल कसने के लिए ये मामला सीबीआई को सौंपा।
लेकिन सीबीआई के हस्तक्षेप के बाद भी अवैध खनन पर नकेल नहीं कसी जा सकी।
सत्ता परिवर्तन होने के बाद ये कयास लगाये जा रहे थे की शायद अब ये काला बाजारी बंद हो ।
लेकिन सीबीआई के हस्तक्षेप व् सत्ता परिवर्तन के बाद भी न तो अवैध खनन रुका और न ही अवैध वसूली।
समय समय सिर्फ खाना पूर्ति ही की जा रही है।
विभागीय जिम्मेदार अधिकार कभी, पुलिस, कभी पत्रकार तो कभी गुंडों का नाम लेकर अपना पल्ला झाड़ लेते है।
लेकिन कोई प्रभावी कार्यवाही नहीं होती।
खनन को लेकर कोई प्रभावी कार्यवाही न होने के पीछे की वजह जरूर ही कुछ दिलचस्प होगी।
क्योंकि ये संभव ही नहीं की अगर पुलिस, एवं अन्य विभागीय अधिकारी सख्त हो जाये तो ये काला बाजारी चल सके।
अवैध खनन को लेकर, पुलिस विभाग, खनिज विभाग, आर टी ओ के साथ साथ पत्रकारिता भी शक के घेरे में है।
संभव है कि इन लोगों को सत्ता का सानिध्य प्राप्त है।
क्योंकि वर्तमान भारत में एक मात्र सत्ता की प्रभुत्ता ही है अवैध कारोबारियों को संरक्षण देती रही है।
सभी विभागीय अधिकारियों के सख्त कदम उठाने के बाद भी अवैध वसूली व् अवैध खनन का न रुकना सत्ता को शक के घेरे में खड़ा करता है।
एक के बाद दूसरी, दूसरे के बाद तीसरी न जाने कितनी टीम गठित हो चुकी लेकिन परिणाम हमेशा सिफर ही रहा।
अवैध खनन व् अवैध वसूली को रोकने के लिए जबतक सत्ता के सारथियों द्वारा उदासीनता को छोड़ कर निज संज्ञान में लेकर इस प्रकरण पर सुव्यवस्थित व् सुनियोजित कदम नहीं उठाया जाएगा।
तब तक अवैध खनन पर कार्यवाही को लेकर खाना पूर्ति मात्र ही होती रहेगी।

Ram Bhawan

Ram Bhawan

District Correspondent

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: