चंडीगढ़ की खास खबरें धर्मवीर शर्मा, स्टेट हेड चंडीगढ़ से

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

प्रिंसिपल मर्डर केस: 2 दिन की रिमांड पर आरोपी छात्र, पिता को भेजा न्यायिक हिरासत में
:यमुनानगर में प्रिंसिपल पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर मौत के घाट उतारने वाले आरोपी छात्र को अौर उसके पिता को आज कोर्ट में पेश किया गया। जहां से कोर्ट ने पिता को न्यायिक हिरासत अौर आरोपी छात्र को 2 दिन के रिमांड पर भेज दिया है। पुलिस आरोपी को रिमांड में लेकर हर पहलू के बारे में पूछताछ करेगी।

वहीं एस.पी. यमुनानगर राजेश कालिया ने देर रात अपने आवास पर प्रैस कांफ्रैंस कर हत्या के कारणों का खुलासा किया। उन्होंने कहा कि आरोपी शिवांश इकोनॉमिक्स का छात्र है। रितु छाबड़ा शिवांश की इकोनॉमिक्स क्लास लेती थी लेकिन उस विषय में कमजोर होने के कारण प्रिंसिपल अक्सर उसे डांट देती थी। यह बात शिवांश के जहन में घर कर गई। उसे लगा कि कक्षा में सभी के सामने उसकी बेइज्जती होती है इसलिए उसने प्रिंसिपल से बदला लेने की योजना बनाई।

 

शनिवार सुबह 10 बजे के बाद जब शिवांश के पिता काम पर चले गए तो उसने अलमारी को तोड़ा जिसमें से रिवाल्वर निकालकर जेब में डाल लिया। वह रितु छाबड़ा के कार्यालय में पहुंचा जहां उसने  प्रिंसिपल  से अपने प्रोजैक्ट की रिपोर्ट लेने की बात कही परंतु उन्होंने ऐसा करने से मना कर दिया। एक बार तो शिवांश ने खुद को सम्भाल लिया और प्रिंसिपल  के कार्यालय से बाहर आ गया लेकिन अचानक उसका मन बदल गया। वह दोबारा उनके कार्यालय में गया और एक के बाद एक 4 गोलियां प्रिंसिपल पर चला दीं। गोली दिल में लगने से रितु की तबीयत बिगड़ गई। इसके बाद शिवांश वहां से भागने लगा तो बाहर खड़े लोगों ने उसे रिवाल्वर के साथ पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया। एस.पी. ने बताया कि जिन लोगों ने आरोपी शिवांश को पकड़ा है, उन्हें सम्मानित किया जाएगा। प्रिंसिपल रितु छाबड़ा को छाती में गोलियां लगी थीं। एक गोली उनके फेफड़े में फंस गई थी, वही मौत की वजह बनी। उधर, इस हत्याकांड के बाद मैनेजमेंट ने स्कूल को 22 जनवरी तक बंद करने का फैसला किया है।

नाबालिग प्रेमी से शादी रचा सुरक्षा लेने अदालत पहुंची बालिग प्रेमिका

 

करीब साढ़े 17 वर्षीय अपने नाबालिग प्रेमी के साथ शादी रचाने के पश्चात एक बालिग प्रेमिका सुरक्षा हासिल करने के लिए शनिवार को स्थानीय सैशन कोर्ट में आ पहुंची।

हालांकि हिन्दू मैरिज एक्ट के तहत शादी के समय लड़के की आयु 21 वर्ष और लड़की की 18 वर्ष होना जरूरी है, इसलिए दोनों में से किसी भी एक के नाबालिग होने की स्थिति में इस तरह की शादी रद्द भी हो सकती है, बावजूद इसके प्रेमी युगल के कौंसिल वरुण मेहता ने अदालत में कुछ ऐसे कानूनी तर्क पेश किए कि अदालत ने कानूनी तर्क के आधार पर स्थानीय जिला एवं सैशन जज कर्मजीत सिंह की अदालत ने प्रेमी जोड़े की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए पुलिस चौकी/थाना कोट खालसा के प्रभारी सहित स्थानीय पुलिस को आदेश जारी कर दिए।
पिता करना चाहता था कहीं और शादी : कामिनी
बिहार राज्य से जुड़े परिवार से संबंधित कामिनी ने कोर्ट में दायर की पटीशन में कहा था कि  उसका परिवार गुरू नानकपुरा इलाके में रह रहा है। उसी इलाके में रहने वाले अभिषेक के साथ उसका प्रेम प्रसंग चल रहा था। उसे बाद में पता चला कि उसकी आयु उससे अभी एक वर्ष कम है। बावजूद इसके वह उसी के साथ ही शादी करना चाहती थी। उसने अभिषेक के बालिग होने पर ही शादी करने का फैसला कर रखा था लेकिन उसके पिता जबरदस्ती उसकी शादी बिहार में ही कहीं और करने की तैयारी कर रहे थे, इसलिए उसे मजबूरी में इसी वक्त शादी करनी पड़ी है। उसे अपने परिवार से खतरा था, जिसकी वजह से वह अपने मां-बाप का घर छोड़ कर अपने प्रेमी के घर आ गई थी।

 

बंदियों ने पतीला मारकर हवालाती का सिर फोड़ा


सैंट्रल जेल बैरक में एक हवालाती को मिलने के बहाने बुलाकर अन्य बंदियों ने उससे मारपीट की और पतीला मारकर उसका सिर फोड़ डाला। घायलावस्था में उसे जेल अस्पताल ले जाया गया, जहां से उसे सिविल अस्पताल रैफर कर दिया गया।
सिविल अस्पताल में उपचाराधीन हवालाती शक्ति सिंह ने बताया कि शनिवार को दोपहर 1.30 बजे के करीब वह अपनी एन.बी. की बैरक नं. 4 में था। इसी दौरान उसके पास कुछ बंदी आए और कहा कि उसे सैंट्रल की बैरक में बुलाया है, जब वह वहां पहुंचा तो कुछ बंदियों ने अचानक उस पर पतीला व फ्राई पैन से हमला कर दिया, जिससे घायल हो गया। घायलावस्था में उसे सिविल अस्पताल रैफर कर दिया गया।
जेल डिप्टी सुपरिंटैंडैंट मंजीत सिंह टिवाणा ने बताया कि हवालाती शक्ति सिंह के खिलाफ डाबा थाना में इरादतन हत्या का मामला दर्ज है, जिसके चलते वह 23 जुलाई, 2017 से जेल में बंद है। बैरक में बंदियों द्वारा हवालाती से मारपीट संबंधी जांच की जाय।

दिल्ली कोर्ट ने कहा- सहमति के बिना महिला को छूने का अधिकार नहीं

 

 


दिल्ली की एक अदालत ने आज कहा कि महिला की सहमति के बिना कोई उसे छू नहीं सकता। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश सीमा मैनी ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि ‘‘ऐय्याश और यौन-विकृति’’ वाले पुरुषों द्वारा उनको परेशान करने का सिलसिला अब भी जारी है। अदालत ने 9 साल की एक बच्ची का यौन उत्पीडऩ करने के मामले में छवि राम नामक व्यक्ति को दोषी ठहराया और उसे पांच साल कैद की सजा सुनाते हुये यह टिप्पणी की।

महिला को बिना इजाजत के छूना गलत
उत्तर प्रदेश निवासी छवि राम ने उत्तरी दिल्ली के मुखर्जी नगर इलाके के एक भीड़ भरे बाजार में नाबालिग को अनुचित तरीके से छुआ था। यह घटना 25 सितंबर, 2014 की है। अदालत ने कहा कि महिला का शरीर उसका अपना होता है और उस पर सिर्फ उसी का अधिकार होता है। दूसरों को बिना उसकी इजाजत के इसे छूने की मनाही है भले ही यह किसी भी उद्देश्य के लिये क्यों न हो।

न्यायाधीश ने कहा कि ऐसा लगता है कि महिला की निजता के अधिकार को पुरुष नहीं मानते और वे अपनी हवस को शांत करने के लिये बेबस लड़कियों का यौन उत्पीडऩ करने से पहले सोचते भी नहीं हैं। उन्होंने कहा कि राम एक ‘‘यौन विकृत’’ शख्स है जो किसी भी तरह की रियायत का हकदार नहीं है। अदालत ने उस पर 10 हजार रूपये का जुर्माना भी लगाया जिसमें से पांच हजार रूपये पीड़िता को दिये जायेंगे। इसके अलावा अदालत ने दिल्ली प्रदेश विधिक सेवा प्राधिकरण को भी बच्ची को 50,000 रूपये देने को कहा है।

बवाना अग्निकांडः सामने आईं दर्दनाक तस्वीरें

 


दिल्ली के बवाना औद्योगिक क्षेत्र में शनिवार शाम एक पटाखा भंडारण इकाई में भीषण आग लगने से 17 लोगों की मौत हो गई। दिल्ली सरकार ने इस घटना की जांच का आदेश दिया है। दिल्ली दमकल सेवा के एक अधिकारी ने बताया कि दो मंजिला एक इमारत के भूतल पर एक भंडारण इकाई में आग लगी, जो पूरी इमारत में फैल गई। इस भीषण अग्निकांड में दस महिलाएं और सात पुरुषों की मौत हुई।

पुलिस ने बताया कि गैर इरादतन हत्या और आग एवं ज्वलनशील सामग्री को लेकर लापरवाही बरतने को लेकर भारतीय दंड संहिता की संबंद्ध धाराओं के तहत एक प्राथमिकी दर्ज की गई है। आग प्लास्टिक के गोदाम से शुरू हुई जो पास ही मौजूद पटाखा फैक्ट्री तक पहुंच गई। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक कई लोगों ने जान बचाने के लिए तीसरी मंजिल से छलांग लगा दी। हादसे पर पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम अरविंद केजरीवाल ने दुख व्यक्त किया है।

हादसे के बाद की तस्वीरें सामने आई हैं। कुछ परिजन अपनों के बारे में पूछताछ कर रहे हैं तो कई अपनों के शवों को सामने देख टूट गए कि जो कमाई करने गए थे, अब कभी वापिस नहीं लौटेंगे। वहीं दो सहेलियों की तस्वीर भी सामने आई है जो मौत के समय भी एक-दूसरे के साथ लिपटी हुई थीं।

 

केजरीवाल को मिला शत्रुघ्न सिन्हा का साथ, बोले- ‘आप’ आए, ‘आप’ छाए

 


ऑफिस ऑफ प्रफिट मामले में अरविंद केजरीवाल के 20 विधायकों की सदस्यता पर चुनाव आयोग की तलवार लटक गई है। आयोग ने विधायकों की सदस्यता खत्म करने के लिए राष्ट्रपति से सिफारिश की है। अब सबकी नजरें रामनाथ कोविंद पर हैं जो इस मामले पर अंतिम मुहर लगाएंगे। वहीं राजनीति गलियारों में भी चर्चाएं तेज हो गई हैं। इसी बीच भाजपा के बागी नेता तथा बिहार से सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने केजरीवाल को समर्थन दिया है।

‘AAP’ Aaye,
‘AAP’ Chhaye,
‘AAP’ hi ‘AAP’ Charcha


सिन्हा ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा कि ‘आप’ आए, ‘आप’ छाए, ‘आप’ ही ‘आप’ चर्चा के विषय। घर घर में, हर खबर में तो फिर किस बात की फिक्र ‘आप’ को? वहीं अगले ट्वीट में उन्होंने लिखा कि मैं उम्मीद और कामना करता हूं कि आप को जल्दी ही न्याय मिलेगा। ‘आप’ टीम और खासकर ‘आप’ को बहुत-बहुत बधाई, ध्यान रखें हितों की राजनीति ज्यादा दिन तक नहीं चलती। चिंता मत करें। खुश रहें, सत्यमेव जयते..जय हिंद’। सिन्हा के इस ट्वीट को अरविंद केजरीवाल ने
बता दें कि दिल्ली सरकार ने 21 विधायकों की नियुक्ति मार्च 2015 में की, जबकि इसके लिए कानून में ज़रूरी बदलाव कर विधेयक जून 2015 में विधानसभा से पास हुआ। इस विधेयक को केंद्र सरकार से मंज़ूरी आज तक मिली ही नहीं है। विपक्षी दलों ने लाभ के पद का हवाला देकर इस मामले में केजरीवाल सरकार पर जमकर निशाना साधा। BJP और कांग्रेस केजरीवाल के इस्तीफे की मांग उठा रही है।

 

 

 

 

 

 

 

Ashok Shrivastav

State Head Uttar Pradesh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: