राहुल गांधी के दौरे को मद्देनजर काँग्रेसियों की तैयारी चाक चौबंद, छत्तीसगढ़ काँग्रेस के लिए प्रतिष्ठा का सवाल

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

प्रकाश पुंज पांडे स्टेट ब्यूरो छत्तीसगढ़

प्रेस विज्ञप्ति

बिलासपुर । जिले में राहुल गांधी की होने वाली रैली में फंस रहे अनेक पंचों से घबराई कांग्रेस पार्टी अब फूंक-फूंककर कदम बढ़ा रही है। कांग्रेसियों को विरोधी टीमों के नेताओं के भाषणों पर ज्यादा ध्यान नहीं देने के लिए कहा गया है। रविवार शाम, प्रदेश प्रभारी पी एल पुनिया ने पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को यह कहकर उनकी बेचैनी दूर करने की कोशिश की कि वे मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की बी टीम (अजीत जोगी की पार्टी, जनता काँग्रेस छत्तीसगढ़ जे)पर ध्यान न दें। सिर्फ अपने काम पर ध्यान दें, परिणाम उम्मीद से बेहतर आएगा।

काँग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी 17 मई को छत्तीसगढ़ के दो दिवसीय दौरे पर आ रहे हैं। दो दिनों के दौरे में वे 6 कार्यक्रम में शिरकत करेंगे। मरवाही विधानसभा के पेंड्रा में 17 मई को आयोजित सभा को लेकर कांग्रेसियों के माथे पर चिंता की लकीरें आ रही हैं। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के सुप्रीमो अजीत जोगी भी इसी दिन प्रतिस्पर्धा में पेंड्रा में आदिवासी सम्मेलन करने वाले हैं। उन्होंने कांग्रेस की सभा को असफल करने का एलान भी कर दिया है। यही वजह है कि कांग्रेसी दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी हुई है।
पेंड्रा की सभा को सफल बनाने के लिए पीसीसी चीफ भूपेश बघेल, पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष डॉ. चरण दास महंत, राष्ट्रीय सचिव चंदन यादव, अरुण उरांव पहले से ही ताकत झोंक रहे हैं। अब इस कड़ी में कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया का नाम भी जुड़ गया है।

प्रदेश प्रभारी पुनिया बीते रविवार को पेंड्रा पहुंचे। वहां उन्होंने सभा स्थल का निरीक्षण किया। उस समय वहां पर पीसीसी चीफ बघेल के अलावा छत्तीसगढ़ कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष शिव डहरिया और धनेंद्र साहू भी थे।

रात में हुई चर्चा

प्रदेश प्रभारी पुनिया, अन्य नेताओं के साथ रविवार रात में कोटमी से बिलासपुर लौटे। यहां उन्होंने प्रदेश महामंत्री अटल श्रीवास्तव, कांग्रेस नेता अशोक अग्रवाल, जिलाध्यक्ष बिलासपुर ग्रामीण विजय केशरवानी, शहर अध्यक्ष नरेंद्र बोलर, प्रदेश प्रवक्ता शैलेष पांडेय, अभयनारायण राय, ब्लॉक अध्यक्ष तैय्यब हुसैन के साथ बैठक की और बहतराई स्टेडियम में 18 मई को आयोजित संभाग स्तरीय संकल्प शिविर के बारे में जानकारी ली।

रात्रि विश्राम के बाद सोमवार सुबह प्रदेश प्रभारी पुनिया बहतराई स्टेडियम भी गए। वहां उन्होंने शिविर स्थल को देखा और सुरक्षा व तैयारियों के संबंध में जानकारी ली। कर्नाटक चुनाव के बाद छत्तीसगढ़ काँग्रेस के लिए राहुल गांधी की ये पहली चुनावी रैली अब छत्तीसगढ़ के काँग्रेस के नेताओं के लिए बहुत बड़ी चुनौती है जिसे विफल करने के लिए खास तौर पर जोगी काँग्रेस ने भी कमर कस ली है।

Bablesh Dwivedi

Bablesh Dwivedi

Managing Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: