वर्चस्व की लड़ाई में चलाई गोली – संवाददाता अमित त्रिवेदी की रिपोर्ट

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

m

*वर्चस्व कायम रखने के लिए मारी गोली*

घटना भरुआ सुमेरपुर के एक गांव की है जहां सोमवार की रात पूरा गांव कृष्ण जन्माष्टमी की धूम में मग्न था। वहीं दूसरी ओर अपराधी अपने वर्चस्व को कायम रखने के लिए एक छात्र को निशाना बनाये हुए थे।
सोमवार की रात्रि थाना भरुआ सुमेरपुर क्षेत्र के ग्राम पचखुरा बुजुर्ग में श्री कृष्ण जन्म उत्सव मना रहे छात्र पर गांव के बाप बेटे ने पुरानी रंजिश के चलते अपना वर्चस्व कायम रखने के उद्देश्य से अवैध तमंचे से गोली मार दी। इससे श्रीकृष्ण जन्मोत्सव मना रहे लोगों में भगदड़ मच गई। दहशत पैदा करने की गरज से बाप बेटे ने जमकर हवाई फायरिंग की । ग्रामीणों के जवाबी फायरिंग शुरू करने के बाद दोनों फायरिंग करते हुए गांव से भाग निकले। वही गोली लगने से छात्र बुरी तरह घायल हो गया । जिसे सदर अस्पताल ले जाया गया है। हालत नाजुक होने पर कानपुर रेफर किया गया, जहां पर छात्र की हालत नाजुक बताई जा रही है। घटना से गांव में दहशत का माहौल है। घटना का मुकदमा घायल छात्र के पिता ने थाने में बाप बेटे के खिलाफ दर्ज कराया है। पुलिस आरोपियों की तलाश में जुट गई है।
बताते चलें घटना कुछ इस प्रकार है सोमवार की रात करीब 8:00 बजे गांव के निवासी प्रदीप तिवारी का बेटा धनंजय उर्फ मयंक तिवारी 19 वर्ष गांव के खेड़ापति मंदिर के सामने आयोजित किए गए श्री कृष्ण जन्मोत्सव कार्यक्रम में हिस्सा लेने गया था। गांव के निवासी वेद प्रकाश उर्फ वेदू तिवारी से इनकी पारिवारिक रंजिश है रंजिश में वर्चस्व कायम रखने की गरज से वेदू तिवारी ने अपने पुत्र सत्यम उर्फ मोनू के साथ मिलकर अवैध तमंचे से मयंक को गोली मार दी। गोली मयंक के कंधे में जा धसी, और वह मौके पर ही गिर पड़ा। वर्चस्व कायम रखने की गरज से बाप बेटे ने ताबड़तोड़ हवाई फायरिंग शुरू कर दी। इससे कार्यक्रम स्थल में भगदड़ मच गई । बाद में ग्रामीणों के मोर्चा संभालने पर दोनों हवाई फायरिंग करते हुए मौके से भाग निकले। घायल छात्र को रात में ही इलाज के लिए सदर अस्पताल ले जाया गया है हालत नाजुक होने पर छात्र को कानपुर के लिए रेफर कर दिया गया। घायल युवा हमीरपुर महाविद्यालय में बीएससी प्रथम वर्ष का छात्र है । घायल छात्र के पिता प्रदीप तिवारी ने थाने में पारिवारिक रंजिश एवं ईर्ष्या के चलते घटना को अंजाम देने का आरोप लगाकर मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस ने पिता की तहरीर पर गांव के निवासी वेदप्रकाश उर्फ वेदू तिवारी तथा उसके पुत्र सत्यम उर्फ मोनू के खिलाफ धारा 307 का मुकदमा दर्ज कर तलाश शुरू कर दी है। दोनों आरोपी गांव छोड़कर फरार हो गए हैं।

*बाप बेटे का है आपराधिक रिकॉर्ड*
एक बेटा जेल में निरूद्ध है। वेद प्रकाश तिवारी एवं उसके तीनों बेटों का आपराधिक इतिहास है बाप बेटों के खिलाफ कई संगीन मुकदमे थाने में दर्ज हैं। पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार 2 नवंबर 2016 को गांव के बाबूलाल कोरी को मारने पर इनके खिलाफ दलित उत्पीड़न सहित गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया था। इस मुकदमे में वेद प्रकाश के साथ पुत्र शिवम को नामजद किया गया था। इसके बाद 4 मई 2017 को वेद प्रकाश ने अपने पुत्र सुंदरम के साथ, गांव के निवासी शिवपूजन यादव के पुत्र नीरज यादव को गांव में ही गोली मारकर घायल कर दिया था। इस मुकदमे में वेद प्रकाश जमानत पर बाहर है। सुंदरम जबकि जेल में है। इसके बाद वेद प्रकाश तिवारी ने 3 सितंबर की रात 8:00 बजे अपने बेटे सत्यम उर्फ मोनू के साथ मिलकर छात्र मयंक तिवारी को गोली मारकर घायल कर दिया। इसका भी मुकदमा रात में दर्ज हुआ है इसके अलावा इनके खिलाफ अन्य मुकदमा भी दर्ज हैं। बाप बेटे की तलाश की जा रही है ।दोनों गांव से फरार हैं इससे ग्रामीणों में दहशत का माहौल बना हुआ है। थाना अध्यक्ष सुनील कुमार शुक्ला ने बताया कि आरोपियों की तलाश में छापेमारी की जा रही है। जल्द ही इन को गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: