उत्तर प्रदेश के अमेठी जिले में नंदमहर धाम पर लगता है भारत के महादानी राजा बलि का मेला

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सुनील कुमार यादव,  मुसाफ़िरखाना

अमेठी – यदुवंशियों के आस्था का प्रतीक बना हुआ हैं नन्दमहर धाम लोगों की धारणा के अनुसार प्रत्येक वर्ष कार्तिक पूर्णिमा पर प्रदेश ही नहीं पूरे देश के कोने-कोने से यदुवंशी श्रद्धालु इस पवित्र स्थल पर एकत्र होते हैं।और इस पौराणिक स्थल की ऐसी मान्यता है कि यहा राजा बलि के महल के बावन द्वारो पर भगवान विष्णु को राजा बलि के महल से बाहर निकलने पर दर्शन देना पड़ता है।इस कारण भगवान विष्णु को कई युग तक क्षीरसागर में रहने का अवसर नही मिला ।चिंतित हो कर महा शक्ति लक्ष्मी ने महाराजा बलि से प्रार्थना की तो उन्होंने भगवान विष्णु को तीन दिन के लिए क्षीरसागर में रहने की अनुमति दी ।

अब हम आपको बता दे कि इस बार मेले में लाखों श्रद्धालुओ की भीड़ पहुंची है। पुलिस प्रशासन मुस्तैद दिखाई दिया है।स्थानीय लोगों के अनुसार इस पवित्र स्थली पर पूर्व रक्षा मंत्री मुलायम सिंह यादव पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी, सोनिया गांधी, शिवपाल सिंह यादव, पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव जैसे देश की महान हस्तियों ने इस पवित्र स्थल पर मत्था टेककर नंदबाबा का आशीर्वाद प्राप्त किया है।
उत्तर प्रदेश में अमेठी जिले के मुसाफिरखाना तहसील के मुख्यालय से 7 किलोमीटर दक्षिण दिशा में स्थित नन्द महर धाम का मंदिर मौजूद हैं। यहां पर बाबा नन्द का प्यारा सा मंदिर बिराजमान है।और राजा बलि ग्वालवंशी (यादव वंश )के पूज्य मानजाने वाले इष्ट कहे जाते हैं। दूर-दूर गांव के बहुत से लोग यहां इनकी पूजा अर्चना करने आते हैं। और उस पूजा से प्रसन्न होकर राजा बलि उस घर की सभी अन्य प्रकार की बाधाओं से मुक्ति प्रादान करते हैं।और यहां पर प्रत्येक मंगलवार को मेला लगता है । लोग यहां पुष्प दूध आनाज चढाते हैं।नंदबाबा व राजाबली, पावरिया की जयकारा लगाते हैं।

Ashok Shrivastav

State Head Uttar Pradesh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: