न्यूज मिरर की खबर का असर, संग्रामपुर सीएचसी की बदहाल व्यवस्था लौट रही पटरी पर

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

चन्द्र मोहन मिश्रा अमेठी की रिपोर्ट

खबर का असर 

 

अमेठी । जिले के संग्रामपुर में स्थिति करोड़ो रूपये के लागत से बना अस्पताल बिना डॉक्टर के बेकार साबित हो रहा था जिस पर अमेठी सीएमओ के बयान को हेडिंग बनाकर  6 दिसम्बर 2017न्यूज मिरर में  प्रमुखता से खबर चली ‘ जिसमे मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने कहा था हमारे यहाँ कागजो पर चलती है ओपीडी और बाँटता है दवा”  नामक खबर को संज्ञान में लेते हुए मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने संग्रामपुर सीएचसी पर एक एमबीबीएस डॉक्टर राघवेन्द्र प्रताप सिंह को 10 से 4 तक के लिए नियुक्त कर दिया । खबर में चीफ फार्मासिस्ट द्वारा दवा नही है यह कह कर मरीजो को लौटा दिया जाता था इस पर सीएमओ के कड़ी फटकार के बाद मरीजो को दवा मिलने लगी है । खबर चलने के बाद से मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने संग्रामपुर सीएचसी पर लगातार नजर जमाये हुए है और कर्मचारियो को अस्पताल परिसर में उपलब्ध ब्यवस्थाओं को आम जन मानस तक सुचारू रूप से पहुंचाने के निर्देश लगातार कर्मचारियो को दिया जा रहा है.

अभी भी बहुत सी अव्यस्थाए विद्यमान है जो कि कर रही है कार्यवाही का इंतजार

बहुत कुछ सुधरने के बाद भी अव्यवस्थाएं विद्यमान हैं जो कार्यवाही का इंतजार कर रही है.

1.जिसमे रात्रि में डॉक्टर निवास नही होने से इमरजेंसी मरीजों को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ता है ।

2.दूसरी दिक्कत यह विद्यमान है कि भर्ती मरीजो के लिए न किसी प्रकार की भोजन नास्ता और फल वितरित करने जैसी कोई व्यवस्था नही चल रही है.

3. तीसरी अव्यवस्था स्टाफ नर्स की कमी जिसमे डिलवरी केश में एक ही नर्स होने से उन्हें काफी दिक्कत का सामना करना पड़ता है.

इन समस्याओं के निस्तारण हेतु भी मुख्य चिकित्सा अधिकारी अमेठी को ध्यान देने की आवश्यकता है.

Ashok Shrivastav

State Head Uttar Pradesh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: