कौन पड़ेगा किस पर भारी

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

जौनपुर : कौन पड़ेगा, किस पर भारी, पढ़िए ये रिपोर्ट हमारी

*जय प्रकाश तिवारी की पड़ताल* जौनपुर। नगर निकाय चुनाव को लेकर आज सभी प्रत्याशियों ने नामांकन के साथ-साथ क्षेत्र में डोर टू डोर मतदाताओं के दरबार में मत्था टेक रहे है। नामांकन में सभी ने अपना शक्ति प्रदर्शन कर अपनी ताकत का एहसास कराने का पूरा प्रयास किया लेकिन मतदाता तो यह समझ ही रहा है कि किसमे कितना दम है। फिलहाल बात जौनपुर नगर पालिका परिषद की करें तो यहां पर पार्टी के प्रत्याशियों के अलावा कुछ निर्दल प्रत्याशी भी किसी से कम नहीं है। अब कौन किस पर भारी पड़ेगा यह तो एक दिसम्बर को सबके सामने होगा ही लेकिन आइए हम एक नजर डालते है कि पार्टी प्रत्याशियों और उनके दम खम पर…

भाजपा : पार्टी ने किरन श्रीवास्तव को मैदान में उतारकर लड़ाई को दिलचस्प बनाने का काम किया है। पार्टी के सांसद, राज्यमंत्री प्रत्याशी को जीताने के लिए कोई कोसर नहीं छोड़ना चाहेंगे क्योंकि उनकी साख भी दांव पर लगी है। रही बात किरन श्रीवास्तव की तो उनकी व्यक्तिगत छवि भी अच्छी है और पार्टी पदाधिकारियों, कार्यकर्ताओं के साथ अच्छा तालमेल है।
सपा : पार्टी ने पूनम मौर्या को मैदान में भेजा है। पार्टी के कद्दावर नेता एवं पूर्व मंत्री वर्तमान मल्हनी विधायक पारसनाथ यादव, पूर्व मंत्री एवं वर्तमान शाहगंज विधायक शैलेंद्र यादव ललई और दिग्गज नेता इनके सपोर्ट में खड़े है। इनकी भी साख दांव पर लगी है। अपने प्रत्याशी को जिताने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहेंगे। पूनम मौर्या का भी पार्टी में अलग पहचान है वह अपने व्यक्तिगत व्यवहार से पार्टी पदाधिकारियों से तालमेल बनाई हुई है।
बसपा : पार्टी के दिग्गज नेता दिनेश टण्डन की पत्नी माया टण्डन इस बार पार्टी के सिम्बल पर मैदान में है। इसके पहले दिनेश टण्डन ने पार्टी के सिम्बल पर नगर निकाय चुनाव नहीं लड़ा है। इस बार पार्टी के परम्परागत वोटों को प्लस करेंगे और चुनाव जीतने के लिए अपना सबकुछ दांव पर लगा देंगे। 15 वर्षों तक निवर्तमान अध्यक्ष होने के नाते इन्हें नगर निकाय चुनाव का काफी अच्छा अनुभव है।
कांग्रेस : पार्टी ने आदर्श सेठ की पत्नी दीपामाला सेठ को चुनावी मैदान में उतार दिया है। ऐसा माना जा रहा है कि इस बार भी इन्हें टिकट दिलवाने में पूर्व विधायक नदीम जावेद का विशेष योगदान है। ऐसे में वह यह सीट पार्टी के कब्जे में करना चाहेंगे इसके लिए वह अपनी टीम के साथ प्रचार करते हुए भी जरुर दिखाई देंगे। वैसे आदर्श सेठ की छवि भी अच्छे नेताओं में मानी जाती है।
निर्दल : डा. चित्रलेखा सिंह ने वर्ष 2012 में निर्दल ही चुनाव मैदान में ताल ठोका था। पिछली बार हार मिली थी तो इस बार पहले से ही तैयारी शुरु हो गयी थी। नगर में व्यापक प्रचार प्रसार कर वह चुनावी माहौल को अपने पक्ष में करने में जुट गयी है।
निर्दल : निर्दल प्रत्याशी के रुप में जगदीश प्रसाद मौर्य गप्पू की पत्नी मालती मौर्य भी चुनावी मैदान में है। आज नामांकन के दौरान उन्होंने अपना शक्ति प्रदर्शन किया। वह भी इस रण में खूब पसीना बहा रहे है।
आप : आम आदमी पार्टी से डा. बीना त्रिपाठी मैदान में है। इस बार आम आदमी पार्टी भी नगर निकाय चुनाव में दिल्ली की तर्ज पर चुनाव मैदान में है। वैसे डा. त्रिपाठी नगर की एक प्रतिष्ठित चिकित्सकों में से एक है और वह पहली बार चुनाव मैदान में हाथ आजमा रही है।

Ashok Shrivastav

Ashok Shrivastav

State Head Uttar Pradesh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *