प्रतापगढ़ की सुबह 7 बजे तक की खास खबर ब्यूरो चीफ रमेश श्रीवास्तव के साथ

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

प्रतापगढ़ । कुंडा तहसील क्षेत्र में इन दिनों प्रतिबंधित मवेशियों के काटने का सिलसिला तेजी से चल रहा है। शनिवार की सुबह तहसील क्षेत्र के कुंडा व नवाबगंज थाना क्षेत्र में दो स्थानों से पुलिस ने प्रतिबंधित मवेशी को काटने के मामले में महिला समेत तीन को हिरासत में लिया। जबकि दो लोग भागने में सफल रहे है। पुलिस दोनों की तलाश कर रही है। कुंडा कोतवाल अभय कुमार श्रीवास्तव को शनिवार की भोर में सूचना मिली कि कुसानी का पुरवा कनावां में कुछ लोग प्रतिबंधित मवेशी को काटकर उसका मांस बेचने की तैयारी कर रहे हैं। सूचना मिलते ही कोतवाल एसएसआई मो. कासिम, सिपाही आशीष कुमार, शैलेंद्र कुमार, अजीत ¨सह के साथ बताए गए स्थान पर दबिश दी। यहां से पुलिस ने कल्लू पुत्र बाबू सेठ को हिरासत में लिया। पुलिस टीम ने मौके से भारी मात्रा में मांस व चापड़ बरामद किया। जबकि मौके से बिलाल, दिलावर पुत्रगण शरीफ निवासी टिकरिया बुजुर्ग भागने में सफल रहे। कोतवाल की तहरीर पर दोनों फरार आरोपियों के खिलाफ पशु क्रूरता अधिनियम के तहत मुकदमा पंजीकृत किया गया है। इसी प्रकार नवाबगंज कोतवाल अनिरुद्ध ¨सह ने थाना क्षेत्र के वाजिदपुर सुंदरपुर गांव निवासी सहिना पत्नी शरीफ के घर पर दबिश दी तो वहां पर बीस किलो प्रतिबंधित मांस बरामद हुआ। पुलिस ने सहिना समेत उदई पुत्र हंगू को हिरासत में ले लिया। जबकि सरताज पुत्र मो. रफी भागने में सफल रहा। पुलिस ने तीनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।

प्रतापगढ़ । पट्टी क्षेत्र से गुजरने वाली शारदा सहायक खंड 36 के भानेपुर माइनर ओवरफ्लो होने के चलते रेड़ीगारापुर के समीप कई जगह से पानी बाहर निकलकर बहने लगा। इससे रेड़ीगारापुर व पूरे बंशीधर के दर्जनभर से अधिक किसानों की लगभग डेढ़ सौ बीघा फसल डूब गई। काफी मशक्कत के बाद किसानों ने शनिवार को माइनर का गेट बंद किया। तब जाकर नहर का पानी रुका। शिकायत के बाद भी कार्रवाई न होने पर किसानों में आक्रोश है।

माइनर में कई दिनों से पानी ओवरफ्लो बह रहा था। इसको लेकर ग्राम प्रधान अवध नारायण यादव ने तहसील दिवस के दौरान शिकायत करते हुए नहर के पानी को बंद कराने की मांग उठाई थी, लेकिन इस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। शुक्रवार की रात अचानक पानी तेजी से बढ़ा और किसानों के खेतों में पहुंच गया। अचानक पानी आने से किसान परेशान हो उठे और नहर विभाग के उच्चाधिकारियों से शिकायत करते हुए नहर के पानी को बंद कराने की मांग की। किसानों ने माइनर के गेट को बंद कर दिया। तब जाकर पानी के बहाव में कमी आई। माइनर ओवरफ्लो होने से क्षेत्र के भानेपुर, तिवारीपुर, नेवादा, पूरेखिरोधर, रेडीगारापुर सहित अन्य गांवों के दर्जनों किसानों के डेढ़ सौ बीघा से अधिक फसल जलमग्न हो गए। इनमें राजनारायण तिवारी, राधेश्याम, फूलचंद्र पांडेय, फूलचंद्र तिवारी, अवध नारायण यादव, मनोज पांडेय, नन्हे यादव, संत प्रसाद, रमाकांत, मुरलीधर, भोला वर्मा, मिठाईलाल व माताफेर सहित तमाम लोगों के फसल जलमग्न रही। एसडीएम जेपी मिश्र का कहना है कि किसानों के फसल को नुकसान से बचाने के लिए तीन दिन पूर्व ¨सचाई विभाग के अधिकारियों को पानी बंद करने का निर्देश दिया गया था। हुए नुकसान का आंकलन कराकर उनकी भरपाई की जाएगी और ¨सचाई विभाग के अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए पत्र भेजा जायेगा।

प्रतापगढ़ : प्रधानमंत्री के महत्वकांक्षी अभियान डिजिटल इंडिया के तहत डाक विभाग को आइटी मॉर्डनाइजेशन के माध्यम से अपनी सेवाओं का विस्तार करेगा। कोर सिस्टम इंट्रीग्रेटेड लागू हो जाने पर ग्राहकों व कर्मचारियों से संबंधित सभी सेवाएं आनलाइन पोर्टल पर आ जाएंगी। जैसे ही सभी पोस्ट आफिस कोर सिस्टम पर कार्य करना शुरू कर देंगे, उसी समय सभी सेवाओं को विभाग की वेबसाइट से जोड़ दिया जाएगा। जिससे ग्राहक घर बैठे बु¨कग से लेकर वितरण, वित्तीय समावेश जैसे बैंकिंग, जीवन बीमा आदि सेवाओं का लाभ प्राप्त हो सकेगा।कोर सिस्टम लागू हो जाने के बाद डाकघर पूरी तरह से पेपरलेस और हाइटेक हो जाएगा। फाइलों का डिस्पोजल भी आनलाइन माध्यम से हो जाएगा।

जिले के प्रधान डाकघर, उप डाकघर व शाखा डाकघरों को पेपरलेस और हाइटेक बनाने की कवायद चल रही है। 31 मार्च के भीतर सभी डाकघरों को इस योजना से जोड़ा जाना है। इस काम को पूरा करने की जिम्मेदारी पीसीएस कंपनी को दी गई है। काम पूरा होने के बाद जिले का डाक विभाग पूरी तरह से पेपरलेस व हाइटेक हो जाएगा। विभाग के सभी कागजात, कर्मचारियों की उपस्थिति, पर्सनल डाटा, सर्विस बुक, कर्मचारियों की छुट्टी आदि कार्य आनलाइन हो जाएगा। कर्मचारियों के सभी कार्यों की प्रगति विभाग के शीर्ष अफसर भी आनलाइन देख सकते हैं। इस कार्य के पूरा होने के बाद विभाग में हो रहे पेपर पर सारे कार्य बंद कर दिए जाएंगे। यह सभी कार्य विभाग के नोडल अफसर की निगरानी में होगा।

12 दिन चलेगा कार्य

जिले के प्रधान डाकघर, उप डाकघर व शाखा डाकघरों को पेपरलेस व हाइटेक करने में 12 दिन लगेगा। इसके लिए डाकघरों में 12 दिन तक काम चलेगा। प्रधान डाकघर को दो दिन बंद करके इसे पेपरलेस से जोड़ा जाएगा। इसके लिए कंपनी की ओर से दर्जन भर कर्मचारी लगाए जाएंगे। वह कर्मचारी विभाग के सारे दस्तावेजों को स्कैन करके उसे इस योजना से जोड़ा जाएगा।

बोलते आंकड़े

डाकघर संख्या

प्रधान डाकघर 1

उप डाकघर 44

शाखा डाकघर 320

कुल कर्मचारी 300

डाक विभाग को पेपरलेस व हाइटेक बनाने की कवायद चल रही है। इससे विभाग का सारा डाटा, कर्मचारियों के सर्विस रिकार्ड, छुट्टी सहित अन्य कार्यों को इस योजना से जोड़ा जाना है। इससे विभाग में हो रहे कार्यों की प्रगति विभाग के शीर्ष अफसर भी दफ्तर में बैठे इंटरनेट पर देख सकते हैं।

– मो. मोहसिन, डाक निरीक्षक केंद्री प्रधान डाकघर।

 

Ramesh Srivastav

Bureau Chief Pratapgarh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: