प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में भ्रष्ट व्यवस्था के तहत हो रहे निर्माण कार्य की वजह से हुई निर्दोष लोगों की मौत .

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

वाराणसी –
वाराणसी में आज कैंट स्टेशन के सामने निर्माणाधीन पुल का एक हिस्सा गिर गया. इसकी चपेट में कई वाहन आ गए. हादसे में एनडीआरएफ की टीम ने 16 मौतों की पुष्टि की है. अभी हादसे में मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है प्रत्यक्षदर्शी के अनुसार पुल के नीचे चार कार, एक आटो रिक्शा और एक मिनी बस खड़ी थी जो मलबे के नीचे दब गयी 25 लोगों की मौत हो चुकी है.जानकारी के अनुसार दुघर्टना में 50 लोगों के दबने की आशंका है. मौके पर आला अधिकारी और एनडीआरएफ की टीम पहुंच गई है.

इस हादसे के बाद पीएम मोदी ने ट्वीट कर दुख जताया. मोदी ने घायलों के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है कि उन्हें जल्द ही स्वस्थ्य लाभ मिले.
मोदी ने बताया कि इस विषय में उन्होंने सीएम योगी से बात की है, साथ ही आदेश दिए है कि पीड़ितों की हर संभव मदद की जाए ।

हादसे को लेकर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद जी ने भी ट्वीट कर शोकाकुल परिवरो को शोक संवेदना प्रकट कर प्रशासन को दुर्घटना में घायल लोगो के लिये स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने के निर्देश दिये है ।

तो वहीं सीएम योगी ने घायलों को 2 लाख और मरने वालों को 5 लाख रुपए के मुआवजे का ऐलान किया साथ ही उच्च स्तरीय टीम का गठन कर 48 घंटे के अंदर जाँच रिपोर्ट सौंपने के आदेश दिए है ।

वही सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने ट्वीट कर घटना में दुख प्रकट किया है साथ ही योगी सरकार को निशाना बनाते हुए कहा है कि सरकार खाली मुआवजा बाट कर खानापूर्ति न करे दोषियों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्यवाही करे.

जानकारी के अनुसार कैंट इलाके में ये फ्लाईओवर मौजूद हैं, जिस पर अर्से से निर्माण कार्य चल रहा था. मंगलवार शाम अचानक इसका एक हिस्सा गिर गया. इसमें मौके पर मौजूद कई गाड़ियां दब गई. वहीं कई लोग भी दब गए. मामला सिगरा थाना क्षेत्र के लहरतारा का है.  जानकारी के अनुसार ये पुल अर्से से ​बन रहा है. हाल ही में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने यहां का दौरा किया था तो इस पुल का निर्माण पूरा करने का आदेश दिया था. लोगों ने बताया कि पुल का अधिकतर हिस्सा पूरा हो चुका है, बस आखिरी काम चल रहा था. आज अचानक एक हिस्सा नीचे आ गिरा।

हादसे में डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि मौके पर पुलिस की टीमें भेजी गई है. मौके पर राहत बचाव कार्य के साथ ही ट्रैफिक नियंत्रण पर भी खास ध्यान रखा जा रहा है. उन्होंने कहा कि अभी कुछ लोगों के दबने की बात सामने आई है लेकिन अभी हम संख्या नहीं बता सकते हैं. हमारी कोशिश है कि सभी घायलों को वहां से जल्द से जल्द निकाला जाए. उन्होंने कहा कि स्थानीय पुलिस मौके पर तत्काल पहुंच गई थी. ये बात जरूर है कि राहत बचाव कार्य के लिए पुलिस के पास चूंकि कोई साधन नहीं था, लिहाजा कार्य थोड़ी देर में शुरू हुआ.  डीजीपी ने कहा कि एनडीआरएफ एक प्रोफेशनल टीम है, वह अपना काम कर रही है.डीएम रामेश्वर मिश्रा ने कहा रेस्क्यू वर्क चल रहा है. एनडीआरएफ के साथ ही जिला प्रशासन व पूरा अहम इसमें लगा हुआ है. उन्होंने कहा कि मेडिकल टीमें मौके पर लगी हुई है. उन्होंने कहा कि अभी राहत बचाव कार्य चल रहा है. कार्य पूरा होने के बाद जांच की जाएगी कि ये हादसा कैसे हुआ ।

 

भले ही अधिकारी जाँच रिपोर्ट में दोषी किसे बनाये लेकिन ये हाल हमारे देश के सबसे ज्यादा विकसित शहरों में से हुवा हैं जो खुद प्रधानमंत्री जी का संसदीय क्षेत्र है जँहा लगातार देश के प्रधानमंत्री विकास की गंगा बहाते रहते है ये हादसा भ्रष्ट व्यवस्था के तहत हो रहे निर्माण कार्य की वजह से हुवा है । अब ये देखना होगा कि योगी सरकार कार्यवाही के नाम पर खानापूर्ति करेगी या इस हादसे में जो जिम्मेदार है उन पर कड़ी कार्यवाही करेगी ।

Ram Bhawan

Ram Bhawan

District Correspondent

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *