आयात नियमों का पालन करें वरना जुर्माना देने के लिए तैयार रहें

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

 

वशिष्ठ चौबे
लखनऊ।यातायात नियमों का सख्ती से पालन करने की आदत डाल लें अन्यथा जुर्माना राशि आपकी जेब तीन गुना हल्की कर देगी। परिवहन विभाग ने जुर्माना (प्रशमन शुल्क) बढ़ाए जाने के लिए एक प्रस्ताव तैयार कर शासन को भेज दिया है। इसमें जुर्माने की जो नई दरें तय की गई हैं वे वर्तमान दर से तीन गुना अधिक हैं। अगर मुहर लगी तो आगामी दिनों में यातायात नियमों को तोडऩे पर व्यक्ति को अच्छी खासी रकम अदा करनी पड़ेगी।शासन में भेजे गए प्रस्ताव में पहली बार हेलमेट, सीट बेल्ट न लगाने पर 500 रु जुर्माना राशि लिये जाने की बात रखी गई है। वहीं दूसरी बार इसी अपराध में पकड़े जाने पर डेढ़ हजार रुपये की जुर्माना राशि का जिक्र किया गया है, जबकि पहले इन अपराधों में मात्र सौ रुपया का प्रशमन शुल्क देय था। वाहनों में रेट्रो रिफ्लेक्टिव टेप न लगे होने की दशा में जांच के दौरान ढाई हजार रुपया लिये जाने के अलावा प्रदूषण प्रमाण पत्र न होने पर ढाई हजार रुपया बतौर जुर्माना देना होगा।दूसरी बार में दोनों ही अपराधों में पांच हजार जुर्माना प्रस्तावित किया गया है। पहले इन दोनों में ही एक हजार रुपये का जुर्माना निर्धारित था। दूसरी बार में यह जुर्माना राशि बढ़कर पांच हजार हो जाएगी। इसी तरह बिना लाइसेंस गाड़ी चलाने पर जुर्माना राशि को 800 से बढ़ाकर 2500 किए जाने का प्रस्ताव भेजागया है। अव्यस्क व्यक्ति द्वारा गाड़ी चलाए जाने पर भी 2500 रु जुर्माना लिये जाने का प्रस्ताव है।अभी तक ट्रैफिक और परिवहन विभाग यातायात नियम तोडऩे के विभिन्न अपराधों में अलग-अलग जुर्माना राशि वसूलतेहैं। यातायात पुलिस का प्रशमन शुल्क परिवहन विभाग से कई मामलों में ज्यादा है। अब अगर इस प्रस्ताव पर मुहर लगी तो परिवहन विभाग और यातायात पुलिस की जुर्माना राशि भी एक समान हो जाएगी।वाहन चलाते वक्त मोबाइल से बात की तो रद होगा लाइसेंस परिवहन अधिकारियों के मुताबिक मोबाइल पर बात करते हुएवाहन चलाने की दशा में चालक का लाइसेंस निलंबित किया जा सकता है। बड़ा जुर्माना न होने की वजह से इसे लेकर भी निर्णय होगा। कई अन्य अपराधों में भी जुर्माने के प्रावधान की बात रखी गई है। जुर्माना राशि को बढ़ाया जाना जरूरीपरिवहन आयुक्त पी0 गुरुप्रसाद ने बताया कि जुर्माना दरों को बढ़ाए जाने का प्रस्ताव शासन को भेज दिया गया है। अभी तक केंद्र से बढ़ी जुर्माना राशि वाली दरों को लेकर दिशा-निर्देश नहीं मिले है। यह प्रस्ताव अलग है। मंजूरी मिलने के बाद इसे लागू किया जाएगा। जुर्माने की मामूली धनराशि के चलते लोगों को बार-बार समझाने और जागरूक करने के बाद भी यातायात नियमों का लोग गंभीरता से पालन नहीं करते हैं। नतीजा अक्सर लापरवाही लोगों पर भारी पड़ती है और दुर्घटनाएं होती हैं। दुर्घटनाओंमें कमी लाने के लिए जुर्माना राशि को बढ़ाया जाना जरूरी है, जिससे लोगों में नियम पालन की प्रवृति बढ़े।

Anil Anup

Anil Anup

रज्य ब्यूरो प्रभारी पंजाब।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: