ये थाना सुमेरपुर है साहब,यहाँ गुंडाराज कायम है.

  • 2
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    2
    Shares

काजी अजमत भरुवा सुमेरपुर (हमीरपुर) जब खाकी ही गुंडों और दलालों को संरक्षण देने लगे तो फिर राम राज्य की कल्पना कैसे की जा सकती है .एक बार फिर थाना सुमेरपुर सुर्ख़ियों में आ गया है. फिर एक बार वसूली एजेंट इंद्रजीत सिंह की गुंडई सामने आयी है. इस बार इंद्रजीत सिंह और उसके लड़के ने मिलकर एक ऑटो चालक को बुरी तरह मारा पीटा है.

मामला थाना क्षेत्र सुमेरपुर के बस स्टैंड का है. प्राप्त जानकारी के अनुसार कुंडौरा निवासी ऑटो चालक नबी बक्श सवारियां लेकर जा रहा था. तभी इंद्रजीत व उसके बेटे रोहित ने उसे रोक कर कहा कि “चल पहले थाने से कुर्सियां और टेंट का सामान लेकर टेंट हाउस पहुंचा दे .” ऑटो चालक के मना करने पर इंद्रजीत उसको गाली देने लगा. जब ऑटो चालक ने विरोध किया तो इंद्रजीत व् उसके बेटे ने मिलकर ऑटो चालक को बुरी तरह मारा पीटा.

इंद्रजीत सिंह द्वारा थाने में की गई गुंडई का वीडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

इंद्रजीत सिंह पहले भी कर चुका है गुंडई: ज्ञात हो कि आज के पहले भी इंद्रजीत सिंह ने एक पत्रकार के साथ अभद्रता कि थी. इतना ही नहीं, इंद्रजीत थाना परिसर के अंदर पुलिस कर्मियों के सामने भी मारपीट कर चुका है. (जिसका वीडियो वायरल हुआ था). इस घटना की जाँच सीओ सदर रजनीश उपाध्याय कर चुकें हैं. लेकिन पुलिस का चहेता होने के कारण इंद्रजीत के खिलाफ कोई भी कार्यवाही नहीं की गयी.

ये भी पढ़ें :-ये थाना सुमेरपुर है साहब! यहाँ की पुलिस अपने चहेतों को बचाने के लिए सारे तथ्य झुंठला देती है.

होमगार्डों के साथ भी करता है अभद्रता : आज ही पत्रकारों के समक्ष एक होमगार्ड ने इंस्पेक्टर से शिकायत कर कहा कि इंद्रजीत व उसका बेटा रोहित उनलोगों (होमगार्डों) के साथ भी अभद्रता करता है.
इस पर इन्स्पेक्टर  सुनील शुक्ला ने होम गार्ड से कहा कि “ये बात पहले क्यों नहीं बताई ? पत्रकारों के सामने ये बात कहने कि क्या जरुरत थी.”

अब क्या कह रहें है थानाध्यक्ष: जब पत्रकारों ने थाना अध्यक्ष से पूंछा कि इंद्रजीत व उसके बेटे के खिलाफ आप क्या कार्यवाही करेंगे तो उन्होंने कहा “पकड़ कर बैठा तो लिया है उसके बेटे को अब क्या करें.” थाना अध्यक्ष के ऐसे बयान से तो यही प्रतीत होता है कि इस बार भी पुलिस अपने चहेते इंद्रजीत व उसके बेटे के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं करेगी. अब देखना है  उच्चाधिकारी इस पूरे मामले पर क्या करते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: